दुःख का अनुभव किए बिना सुख का महत्व पता नहीं चलता. इस लिए दुःख से घबराना नहीं चाहिए. दुःख से सीखना चाहिए. समस्याओं के प्रति सकारात्मक द्रष्टिकोण रखने से अनेक समस्याएं आसानी से हल हो जाती हैं. मनुष्य को प्रकृति से सीखना चाहिए, उस से मुकाबला नहीं करना चाहिए. प्रकृति के नियमों का अनुसरण करके सुखी जीवन जिया जा सकता है.

Sunday, December 14, 2008

अपराध एक, पति को सजा, पत्नी को नहीं

आज अखबार में एक ख़बर पढ़ी - अगर एक विवाहित पुरूष किसी पर-स्त्री से शारीरिक सम्बन्ध रखता है तो उसे सजा होगी, पर अगर एक विवाहित स्त्री किसी पर-पुरूष से शारीरिक सम्बन्ध रखती है तो उसे सजा नहीं होगी, इस केस में भी सजा पुरूष को ही होगी. आप माने या न माने हमारे देश में यह कानून है. इस कानून के अनुसार व्यभिचार का दोषी केवल पुरूष होता है स्त्री नहीं. अगर यह भी साबित कर दिया जाय कि स्त्री ने ही पुरूष को व्यभिचार में फंसाया, तो भी सजा पुरूष को ही मिलेगी. 

सरकार इस कानून में बदलाव लाना चाहती है, पर महिला संगठन इस बदलाव के ख़िलाफ़ हैं. 

9 comments:

राज भाटिय़ा said...

यह कानुन है या एक चुटकला ?? वेसे मजा आ गया !! अब समझ मै आ गया की खरबुजा छुरी पर गिरे या छुरी खरबुजे पर .... साला मरे गा खरबुजा ही.
धन्यवाद

ab inconvenienti said...

ब्लॉग जगत में भी फेमिनिस्ट सक्रिय हैं, उनसे ही पूछिए.

रचना said...

ब्लॉग जगत में भी फेमिनिस्ट सक्रिय हैं, उनसे ही पूछिए.

फेमिनिस्ट ki paribhasha kyaa haen ?? badaeltey samay mae shabdo kae arth badal jaatey haen . aaj kal log naari sashktikaran par likhnae walo ko bhi feminist kehtay haen kyuki log is purva grah sae grasit haen ki mahila ko "sashkt nahin hona chahiyae .

ab aapki post
pehli baat jo information paper mae haen usmae kehaa gayaa haen ki central govt , state goverments kae saath mil kar kanun banaaney par vichhar kar rahee jis mae us mahila ko sajaa ka pravdhaan ho jisnae apne "pati" kae allawa kisi gae mard sae shaarirk sambandh banaaya haen . abhi tak yae pravdhaan kewal aur kewal vivahit purusho kae liyae tha .

अगर यह भी साबित कर दिया जाय कि स्त्री ने ही पुरूष को व्यभिचार में फंसाया, तो भी सजा पुरूष को ही मिलेगी.
aur is baat mae bahut anter haen

hamarey smaaj mae kaanun ko koi nahin maantaa yahaan samaaj kae apne kaanun haen .
log parivar bachhane ki baat kartey haen aur व्यभिचार ko badhaava dae kar shaadi sae bahar sambandh banaatey haen { pusurh aur stri done } par sajaa samaj kis ko daetaa haen jis kae saath sambandh banaaya jaata haen jabki kaanuni pravdhaan haen ki jisnae sambandh banayaa sajaa usko do

aap ko color tv par chal rahaa seriel jaane kyaa baat hui jarur daekhan chaehaye

पुरुषोत्तम कुमार said...

इसे कहते हैं मिल-जुलकर बात का बतंगड़ बनाना। वैसे हर बात में समानता की जरूरत है तो कानून भी सब पर समान रूप से ही लागू होना चाहिए। स्त्री हो या पुरुष।

अनिल said...

समानता की बात की जाय तो कानून भी सबके लिए समान होना चाहिए.

Pramod said...

Law is sure tilting in favour of women now, and women are misusing this new empowerment. A large majority of educated women are taking upon men with these new laws. It is not a healthy situation. Courts also agree on this.

sticker said...

Although there are differences in content, but I still want you to establish Links, I do not
fashion jewelry

Anonymous said...

donon me se kisi ko bhi saja nahin honi chahiye !

yeh jo kanoon hai woh hamen angrezon se mili hui bhent hai, koi nai ya aajkal ki baat nahin jo ki striyan "misuse" kar saken.

iske mutabik sazaa purush ko parstrigaman ki tabhi hogi, jab woh stri shadishuda ho, aur woh bhi patidev ki shikaayat par (non cognisable).

jo stri shadishuda na ho, uske saath sambandh ki sazaa nahin hai.

yaani ke jo stri kisi aur ki "property" hai, usse hathiyana gunaah hai.

lekin yeh bhi dhyaan rakhen ki asli gunaah shaaririk sambandh banana nahi hai, asli gunaah hai pakda jaana.

Harish Sangwan said...

valentine quotes for husband
valentine quotes for wife
valentine quote for whatsapp
funny valentine day poem for husband,wife,boyfriend
9 valentine poem for wife
valentine poem for husband
valentine poem for boyfriend

गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं

गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं

PROTECT RIGHT TO INFORMATION


Want your website at the top in all search engines?
Visit Website Promotion

For free advice on management systems - ISO 9001, ISO 14001, OHSAS 18001, ISO 22000, SA 8000 etc.
Contact S. C. Gupta at 9810073862
e-mail to qmsservices@gmail.com
Visit http://qmsservices.blogspot.com

सुखी जीवन का रहस्य

दूसरों के सुख में सुखी होंगे तो आपका अपना जीवन सुखी होगा